कश्मीर में सुरक्षाबलों को एक और कामयाबी मिली है, उन्होंने हिजबुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर रियाज नायकू को मार गिराया है। आतंकी रियाज मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल था और उस पर 12 लाख रूपये का इनाम घोषित था। वह अपनी माँ से मिलने पुलवामा के एक गांव आया था और घर पर था। 

गणित शिक्षक से आतंकी कमांडर बना रियाज नायकू मारा गया, मोस्ट वांटेड लिस्ट में था शामिल


कश्मीर में सुरक्षाबलों को रियाज के ठहरे होने की सुचना मिथी ली, जिस पर एक्शन लेते हुए सुरक्षाबलों ने उसके घर को घेर रखे थे। नायकू के मारे के बाद घाटी में भारी पथराव शुरू हो गया है। यह घटना वृहत रूप न ले लें, इसी के मद्देनजर घाटी में इंटरनेट सेवाएं स्थगित कर दिया गया है। भारतीय दूरसंचार संचार निगम (बीएसएनएल) के अलावा बाकी सभी ऑपरेटर के फ़ोन सेवा भी बंद हैं। 

मंगलवार रात को मिला था इनपुट 
मंगलवार रात को सुरक्षाबलों को रियाज के यहाँ पर ठहरे होने की पक्का इनपुट मिल चुका था। इसके बाद इस इलाके की घेराबंदी कर उस घर को भी घेरा गया जहाँ रियाज छुपा हुआ था। सुरंग के रास्ते बाहर न निकल जाये, इसलिए आसपास के सड़क, खेतों का अच्छी तरह जाँच किया गया। 


आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू की 
बुधवार की सुबह घर में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग करनी शुरू कर दी। रियाज घर के ऊपरी छत पर छुपा था और सुरक्षाबलों को निशाना बनाकर उन पर फायरिंग करते हुए नीचे उतरा। इसके प्रतिक्रिया में सुरक्षाबलों ने उस घर को आईईडी बम से नष्ट कर दिया जहाँ आतंकी छुपे हुए। था। इसमें रियाज का एक साथी भी मारा गया। 

हम आतंकियों के नाम का खुलासा नहीं करेंगे - आर्मी 
आर्मी प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने बताया कि पुलवामा में मारे आतंकियों के नाम का खुलासा नहीं करेंगे ताकि उसका ज्यादा महिमामंडन न हो। हालाँकि बाद में सीआरपीएफ और ज&क पुलिस ने नाम का खुलासा कर दिया। 

 गणित शिक्षक से आतंकी बना था रियाज नायकू
कहा जाता है कि रियाज नायकू 2010 से पहले तक गणित का शिक्षक था परन्तु 2010 में हुए एक उपद्रव  कारण आतंकी बन गया था। 


अपने ईमेल पर सामान्य ज्ञान, पीडीएफ, नोट्स, अध्ययन सामग्री और नौकरी सम्बन्धी जानकारी पाने के लिए ईमेल जरुर रजिस्टर कर लेवें.


नोट: इस लेख को ग्रहण करने से पहले Dailyknow.in की डिस्क्लेमर अवश्य पढ़ लें.
और नया पुराने