कोरोनावायरस (कोविड -19): गृह मंत्रालय (एमएचए) ने बुधवार को लॉकडाउन के दूसरे चरण के समाप्त होने के चार दिन पहले एक आदेश जारी कर फंसे हुए प्रवासी मजदूरों, छात्रों और पर्यटकों के अंतर-राज्य स्थानांतरण को अनुमति दी है।


कोविड -19 लॉकडाउन-dailyknow-in

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला द्वारा जारी आदेश में कहा गया है, “लॉकडाउन के कारण, प्रवासी श्रमिक, तीर्थयात्री, पर्यटक, छात्र और अन्य व्यक्ति विभिन्न स्थानों पर फंसे हुए हैं। उन्हें स्थानांतरित करने की अनुमति दी जाएगी।"

एमएचए ने कहा कि यह दो राज्यों के बीच पारस्परिक रूप से सहमती के माध्यम से किया जाना है और स्थानांतरण को आवश्यक सामाजिक अलगाव (social distancing) के साथ स्वच्छ बसों में किया जाना है। 

केवल स्वस्थ लोगों को यात्रा करने की अनुमति दी जाएगी और उनके स्वास्थ्य की स्थिति का द्वितीय आकलन उनके गृह राज्य में आने पर किया जाएगा। इसके अलावा उन्हें गंतव्य तक पहुंचने के उपरांत घर में या संस्थागत क्वारंटाइन में रखा जाएगा।

मौजूदा लॉकडाउन दिशानिर्देशों के तहत, अब तक इसकी अनुमति नहीं थी, हालांकि यूपी और एमपी जैसे राज्यों ने लगभग एक सप्ताह पहले राजस्थान के कोटा से छात्रों को निकालना शुरू कर दिया था। 

यूपी ने कुछ दिनों पहले प्रवासी मजदूरों को परिवहन करना शुरू किया था। बिहार जैसे राज्यों ने विरोध किया था और यहां तक ​​कि केंद्र को पत्र लिखकर कहा था कि कोटा से छात्रों को निकालना "राष्ट्रीय दिशानिर्देशों का पूर्ण उल्लंघन" है।

अपने ईमेल पर सामान्य ज्ञान, पीडीएफ, नोट्स, अध्ययन सामग्री और नौकरी सम्बन्धी जानकारी पाने के लिए ईमेल जरुर रजिस्टर कर लेवें.


नोट: इस लेख को ग्रहण करने से पहले Dailyknow.in की डिस्क्लेमर अवश्य पढ़ लें.

Post a Comment

और नया पुराने